छत्तीसगढ़

बाढ़ से लोगों के बचाव के लिए कार्य-योजना तैयार : कलेक्टर

https://www.facebook.com/share/Xojit7vcWzNoKuyP/?mibextid=oFDknk

बिलासपुर । कलेक्टर अवनीश शरण ने अतिवृष्टि व बाढ़ की स्थिति में लोंगों के राहत एवं बचाव कार्य के लिए वैकल्पिक कार्य-योजना तैयार रखने को कहा है। उन्होंने कहा है कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की अभी से पहचान कर उन भवनों को भी चिन्हित कर लिया जाए जहां पर प्रभावित लोगों के लिए राहत शिविर लगाई जा सके। कलेक्टर ने टीएल बैठक में आज इस आशय के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने विभिन्न माध्यमों से प्राप्त पत्रों समीक्षा करते हुए इसके निराकरण में और तेजी लाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने बैठक में कहा कि बरसात शुरू होने के बाद कभी भी अतिवृष्टि के हालात बन सकते हैं। हमें अपनी तैयारी चौकस रखनी चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर तत्काल लोगों को राहत पहुंचाई जा सके। उन्होंने प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को भी मुनादी के जरिए चेताने को कहा है। कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग को भी अलग से मेडिकल टीम गठित करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर ने कहा कि आंधी तूफान अथवा अन्य कारणों से खेतों और सार्वजनिक रास्तों पर बिजली के तार झूल रहे हैं। इससे टकराकर अनहोनी की आशंका रहती है। इसलिए बिजली विभाग को अभियान चलाकर इन्हें सुधारने को कहा गया है। अतिवृष्टि के कारण मकान अथवा अन्य क्षति होती है तो राजस्व विभाग अधिकतम एक सप्ताह में उन्हें सहायता राशि दिलाना सुनिश्चित करें। मौसमी बीमारी की आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर एवं कर्मचारी अपने मुख्यालय में रहना सुनिश्चित करें ताकि तत्काल स्थिति को संभाला जा सके।

कलेक्टर ने बैठक में खाद-बीज के उठाव एवं वितरण की स्थिति की भी जानकारी ली। उन्होंने सभी एसडीएम को अपने इलाके के सोसायटियों पर नजर रखने और दौरा करने को कहा है। उपलब्ध सभी सामग्री बिना परेशानी के मिलनी चाहिए। यदि कोई खाद अथवा बीज उपलब्ध नहीं हो पा रहा है तो उसका वैकल्पिक उपाय भी किसानों को सुझाया जाये। खरीदी केन्द्रों से धान उठाव की समीक्षा करते हुए बिरकोना सोसायटी से 2-3 दिनों में अनिवार्य रूप से उठा लेने के निर्देश दिए। खनिज अधिकारी ने बैठक में स्पष्ट किया कि नदी से रेत उत्खनन पर प्रतिबंध लग चुका है। लेकिन पहले से संग्रहित किये गये रेत का परिवहन परिवहन किया जा सकता है। बशर्ते उन्हें रायल्टी पर्ची कटाना होगा। वृक्षारोपण की तैयारी की भी बैठक में समीक्षा की गई। वन अधिकारी ने बताया कि 2.66 लाख पौध वर्तमान में उपलब्ध है। इच्छुक लोगों को घर-घर पहुंचाकर उपलब्ध कराया जायेगा। कलेक्टर कार्यालय में भी 1 जुलाई से निःशुल्क पौधा वितरित किया जायेगा।

कलेक्टर शरण में शाला प्रवेशोत्सव की तैयारी की भी समीक्षा की। जिला स्तरीय उत्सव मल्टीपर्पज स्कूल में मनाया जायेगा। स्कूल खुलने के पहले साफ-सफाई करा लेने के निर्देश दिए। उन्होंने चेतावनी के लहजे में कहा कि शिक्षक बच्चों पर निगाह बनाये रखें। किसी बच्चे के साथ कोई दुर्घटना हुई तो पूरा स्कूल स्टाफ पर कार्रवाई होगी। उन्होंने 27 तारीख को आयोजित मेगा प्लेसमेन्ट कैम्प की तैयारी की भी समीक्षा की और इसकी सफलता के लिए प्रशिक्षु आईएएस एवं सहायक कलेक्टर तन्मय खन्ना को नोडल अधिकारी बनाये है। बैठक में नगर निगम आयुक्त अमित कुमार, एडीएम आरए कुरूवंशी, शिवकुमार बनर्जी सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button