छत्तीसगढ़

एमजीएम स्कूल बालको में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

https://www.facebook.com/share/Xojit7vcWzNoKuyP/?mibextid=oFDknk


कोरबा। एमजीएम स्कूल बालको के प्रांगण में आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सभी शिक्षक शिक्षिकाओं ने मिलकर योगाभ्यास कर लोगों को यह संदेश दिया कि योग जीवन का आधार है ,हमें प्रतिदिन दिन की शुरुआत योग के साथ करनी चाहिए जिससे पूरे दिन हम स्वयं को तरोताजा व चुस्त दुरुस्त महसूस करें । कहते हैं, स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का वास होता है । योगाभ्यास शरीर को स्वस्थ रखने की एक उत्तम क्रिया है,यह एक ऐसी क्रिया है जो प्राचीन काल से केवल ध्यान साधना के लिए की जाती थी। लेकिन आज के समय में आम जनमानस इसे उत्तम स्वास्थ्य के लिए करता है। योग अवसाद, थकान, चिंता ,संबंधी विकार और तनाव को कम करने में सहायक है इसलिए हम सबको इसे प्रतिदिन अपने जीवन में शामिल करना चाहिए।

विद्यालय के प्राचार्य फॉदर पाल पी थॉमस ने सभी को योगा दिवस की शुभकामनाएं देते हुए अपने उद्बोधन में योग पर प्रकाश डालते हुए कहा कि, 21 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस योग की प्राचीन भारतीय पद्धति और शारीरिक और मानसिक हेल्थ के लाभों के बारे में वैश्विक जागरूकता को बढ़ावा देता है. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2024 का विषय ‘महिला सशक्तिकरण के लिए योग’ है, जो महिलाओं के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने पर केंद्रित है. इस अवसर पर योग के अभ्यास को बढ़ावा देने के लिए विद्यालय में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। 21 जून को उत्तरी गोलार्ध में वर्ष के सबसे लंबा दिन होता है. साथ ही, यह तिथि दुनिया के कई हिस्सों में विशेष महत्व रखती है और योग परंपराओं में इसे शुभ माना जाता है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस भारत की प्राचीन परंपरा की अमूल्य देन है. यह मन और शरीर की एकता का प्रतीक है.अपनी जीवन शैली को बदलकर और चेतना पैदा करके, यह भलाई में मदद कर सकता है. हमें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को अपनाने की दिशा में काम करना चाहिए। योग एक शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास है।
इस अवसर पर विद्यालय के सभी शिक्षक शिक्षिकाएं वह चतुर्थ वर्ग कर्मचारी विशेष रूप से उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button